फ्राम की कहानी : १७२० – मराठों का नाविक विजय

अंग्रेजों ने विजयदुर्ग को जीतने की पूरी कोशिश की। समुद्र की लहरों पर मानो एक किला खडा कर दिया – फ्राम: तैरता हुआ तोपखाना।
यह फ्राम और विजयदुर्ग की कहानी है। वीर कान्होजी आंग्रे के शौर्य की कहानी ! फ्राम की कहानी : १७२० – मराठों का नाविक विजय.

%d bloggers like this: